Surprises RBI cuts repo rate by 50 bps to 6.75%

CAknowledge.in Latest News

Surprises RBI cuts repo rate by 50 bps to 6.75%, RBI Cut in Repo Rate from 7.25 Percent to 6.75 Percent. Here we are providing complete information for Repo Rate. Reserve Bank of India (RBI) governor Raghuram Rajan on Tuesday (29-09-2015) cut the repo rate by 50 basis points to 6.75% from 7.25%. RBI cuts repo rate by 50 bps; no change in CRR, SLR. Keep CRR at 4%

Surprises RBI cuts repo rate by 50 bps to 6.75%

he Reserve Bank of India (RBI) lowered the benchmark repo rate by 50 basis points to 6.75 percent, while keeping CRR and SLR unchanged at 4 percent and 21.5 percent, respectively.

This marks the fourth repo rate cut by the RBI since January 2015. However, it has lowered its FY16 GDP growth target to 7.4 percent from 7.6 percent. It also said the focus should now shift to bringing inflation down to 5 percent by FY17-end. The repo rate was last at 6.75 percent in March 2011. The focus of monetary action in the near term will now shift towards removing impediments in rate cut transmission by banks, the RBI said. It also intends to work with the government to ensure that banks pass on the bulk of the cumulative 125 basis points cut since January this year. “A further monetary policy accommodation will be conditioned by the abating of recent inflationary pressures, the full monsoon outturn, possible Federal Reserve actions and greater transmission of its front-loaded past actions,” the RBI press release said. Gov

New Rates RBI

Rate Percentage
Repo Rate 6.75%
Reverse Repo Rate 5.75%
CRR 4.00%
SLR 21.5%

RBI lowers repo rate to 6.75 per cent. RBI cuts repo rate by 50 basis points to 6.75%, EMIs may fall. Read Complete News From Below

The Reserve Bank of India (RBI) on Tuesday cut its key lending rate—the repo rate—by 0.50 percentage points to 6.75% rekindling hopes of lower home loan EMIs and cheaper bank capital for companies to invest and hire more.

RBI governor Raghuram Rajan, however, kept two key main rules unchanged disappointing markets, which were expecting the central bank to cut the statutory liquidity ratio (SLR) and the cash reserve ratio (CRR) that would have given banks more funds to lend and enable them to lower loan rates by a higher extent.

The benchmark 30-share BSE Sensex fell by over 400 points shortly after the RBI announced its policy.

The SLR, the proportion of deposits banks are required to park in government bonds, stands at 21.5%, while the cash reserve ratio (CRR), the proportion of deposits that banks have to park with the RBI, stands at 4%.

“Strong food policy and management will be important to help keep inflation and inflationary expectations contained over the near term. Furthermore, monetary easing can only create the enabling conditions for a fuller government policy thrust that hinges around a step up in public investment in several areas that can also crowd in private investment,” RBI’s statement said.

“A targeted infusion of bank capital into scheduled public sector commercial banks, especially those that implement concerted strategies to clean up stressed assets, is also warranted so that adequate credit flows to the productive sectors as investment picks up,” the bank said.

Repo Rate News In Hindi

RBI का दिवाली तोहफा, रेपो रेट 4.5 साल के निचले स्‍तर पर, घटेगी लोन की EMI
मुंबई. भारतीय रिजर्व बैंक ने दिवाली से पहले ही इंडस्‍ट्री और आम अादमी को रेट कट का तोहफा दे दिया है। भारतीय रिजर्व बैंक ने मंगलवार को रेपो रेट में उम्‍मीद से ज्‍यादा 0.50 फीसदी की कटौती कर दी है। इस कदम से रेपो रेट 4.5 साल के निचले स्‍तर पर आ गया है। इसका सीधा फायदा होम और कार लोन की ईएमआई घटने के रूप में मिलेगा। इसकी शुरुआत भी बैंकों ने कर दी है। आंध्रा बैंक ने पॉलिसी आने के तुरंत बाद ही अपना कर्ज चौथाई फीसदी सस्‍ता करने की घोषणा कर दी। ऐसे में उम्‍मीद है कि आज शाम तक दूसरे बैंक भी कर्ज सस्‍ता करने की घोषणा कर सकते हैं।

 आरबीआई ने यह कदम सरकार और इंडस्ट्री के प्रोजेक्शन के मुताबिक उठाया है। रिजर्व बैंक के गवर्नर रघुराम राजन ने मोनेटरी पॉलिसी पेश करते हुए कहा कि रेपो रेट 0.50% घटाकर 6.75 % कर दिया है। जनवरी से अब तक रेपो रेट में यह चौथी कटौती है। आरबीआई गवर्नर ने सीआरआर को 4% और एसएलआर 21.5% पर बरकरार रखा है। रिवर्स रेपो रेट अब घटकर 5.75 हो गया है। महंगाई कंट्रोल में रहने की उम्मीद और इकोनॉमी को बूस्ट देने के लिए आरबीआई ने यह फैसला किया है।
रेपो रेट घटने से क्या हो सकते हैं फायदे?… 
  • ब्याज दरों में कटौती से अब इंडस्ट्री के लिए लोन लेना सस्ता होगा।
  • साथ ही होम लोन, ऑटो लोन जैसे दूसरे कर्ज सस्ते हो जाएंगे।
  • पहले से चल रहे लोन की EMI भी कम हो जाएगी।
  • अगर बैंक तुरंत इंट्रेस्ट रेट घटाते हैं तो होम लोन की EMI पर सालाना 12 हजार रुपए तक की बचत हो सकती है।
  • इसी तरह ऑटो लोन की EMI पर सालाना 3100 रुपए की बचत हो सकती है।
आगे क्‍या
आरबीआई के इस कदम से उद्योग जगत के साथ्-साथ आम लोगों को सस्‍ता कर्ज मिलने की आस बढ़ गई है। जानकारों का मानना है कि निवेश का माहौल सुधारने के लिए रेपो रेट में आगे और कटौती हो सकती है।
क्या है रेपो रेट और सीआरआर?
रेपा दर यानी जिस रेट पर बैंक अपनी फौरी जरूरत के लिए रिजर्व बैंक से कैश उधार लेते हैं। यह रेट पहले 7.25% था। इसे अब घटाकर 6.75% कर दिया गया है। कैश रिजर्व रेशो यानी वह रकम जो बैंकों को रिजर्व बैंक के पास रखनी होती है। यह रेट 4% पर बरकरार है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *