RBI cuts repo rate by 0.25%, hopes for all types of loans to be cheap

RBI cuts repo rate by 0.25%, hopes for all types of loans to be cheap. RBI has cut the repo rate by 0.25%. It has decreased from 6.25% to 6%. After the meeting of the Monetary Policy Committee (MPC) meeting, interest rates were announced on Thursday. Even in the February review meeting, the RBI had reduced the repo rate by 0.25%, whose repo rate was 6.25%.

  • Repo rate decreased from 6.25% to 6%, RBI gives loans to banks on the basis of repo rate
  • Banks will get cheaper loans, it will be easy for them to pay a low interest rate
  • According to the Expert in the banking sector, the decline in repo rate will reduce the impact of the deposit rates.

Loan EMIs will be lower

The repo rate is the rate at which the RBI lends to the banks. Due to this, banks get cheaper loans. It also clears the way for customers to lower the rates of loans. However, last time the banks did not reduce the interest rates as much as the RBI had reduced the repo rate.

Estimates GDP growth at 7.2% in the current fiscal

RBI has expressed that GDP growth in the current financial year (2019-20) will be 7.2%. Retail inflation in the first half is expected to be between 2.9 to 3%. It can remain 3.5-3.8% in the second half. While fixing the interest rates, RBI keeps retail inflation in mind.

Outlook neutral

Even after the reduction in the rate repo rate last time, the bankers expressed the hope that the repo rate can also be reduced in the April policy because retail inflation is consistently lower than RBI’s target. MPC has changed the outlook to neutral from the last time. Which has also been kept this time too. That is, further repo rates can be reduced.

Repo Rate News in hindi

आरबीआई ने रेपो रेट में 0.25% की कटौती की है। यह 6.25% से घटकर 6% हो गई है। मॉनेटरी पॉलिटी कमेटी (एमपीसी) की बैठक खत्म होने के बाद गुरुवार को ब्याज दरों का ऐलान किया गया। फरवरी की समीक्षा बैठक में भी आरबीआई ने रेपो रेट में 0.25% की कमी की थी, जिसके रेपो रेट 6.25% हो गई थी।

लोन की ईएमआई कम होगी

रेपो रेट वह दर है जिस पर आरबीआई बैंकों को कर्ज देता है। इसमें कमी होने से बैंकों को सस्ता कर्ज मिलता है। इससे बैंकों के लिए भी ग्राहकों को लोन की दरें घटाने का रास्ता साफ होता है। हालांकि, पिछली बार बैंकों ने ब्याज दरों में उतनी कमी नहीं की थी जितनी आरबीआई ने रेपो रेट घटाई थी।

मौजूदा वित्त वर्ष में जीडीपी ग्रोथ 7.2% रहने का अनुमान

आरबीआई ने उम्मीद जताई है कि मौजूदा वित्त वर्ष (2019-20) में जीडीपी ग्रोथ 7.2% रहेगी। पहली छमाही में खुदरा महंगाई दर 2.9-3% के बीच रहने के आसार हैं। दूसरी छमाही में यह 3.5-3.8% रह सकती है। आरबीआई ब्याज दरें तय करते वक्त खुदरा महंगाई दर को ध्यान में रखती है।

आउटलुक न्यूट्रल बरकरार

पिछली बार रेट रेपो रेट में कमी के बाद भी बैंकरों ने उम्मीद जताई थी कि अप्रैल की पॉलिसी में भी रेपो रेट घटाया जा सकता है क्योंकि खुदरा महंगाई दर लगातार आरबीआई के लक्ष्य से कम है। एमपीसी ने पिछली बार आउटलुक भी सख्त से बदलकर न्यूट्रल कर दिया था। जिसे इस बार भी बरकरार रखा है। यानी आगे भी रेपो रेट में कमी की जा सकती है।